इजराइल के इतिहास के बारे में कुछ रोमांचक तथ्य

इजराइल एक छोटा सा देश है लेकिन इस देश का विश्व के मानचित्र और राजनीति में बड़ा स्थान है| पूरी दुनिया में सुर्ख़ियों में रहने वाला ये देश पूरी दुनिया के सबसे विवादास्पद देशों में से एक है |

इजराइल दुनिया का इकलौता यहूदी राष्ट्र है | इसे सबसे विवादास्पद देश इसलिए भी कह सकते हैं क्यूंकी इस देश के नागरिक, नेता, सेना और ख़ुफ़िया एजेन्सीस अपने देश के लिए किसी भी हद तक जाने की क़ाबलियत और प्रबल इच्छाशक्ति रखते हैं |

इजराइल के दुश्मन इस देश से बहुत डरते ही हैं और इजराइल के दोस्तों के साथ सम्बन्ध भी बहुत मजबूत हैं | तकनीक के मामले में और जंगी साजो सामान व् हथियार बनाने में इजराइल रूस और अमेरिका का मुकाबला करता है |

इजराइल अमेरिका और रूस की तरह से बहुत से देशों को हथियार बेचता है यहाँ तक कि भारत भी उन बड़े खरीदारों में शामिल है |

ये भी पढ़ें:

आइए जानते हैं

इजराइल के इतिहास के बारे में कुछ रोमांचक तथ्य – Israel History in Hindi

israel history in hindi

इजराइल की आजादी

इजराइल दुनिया का इकलौता ऐसा देश है जिसका नाम, धरती और भाषा वही है जो आज से 3000 साल पहले थी | ज्यादातर यहूदियों को येरुसलम में किंग सॉलोमन के मंदिर पर हुए हमले के बाद इस देश से बाहर निकालने की कोशिश की गयी थी |

फिर भी बहुत से यहूदी यही बसे रहे | यहूदियों पर बार बार हुए हमलों के बाद भी ये लोग बार बार इकट्ठे होते रहे |

1870 में इजराइल की स्थापना की लड़ाई शुरू हुई, लेकिन दूसरे विश्व युद्ध के दौरान 60 लाख से ज़्यादा यहूदी मारे गये |

फिर भी एक अलग यहूदी देश की लड़ाई चलती रही और 14 मई 1948 को आज़ाद इजराइल की स्थापना हुई |

इस बीच 1947 से लेकर 1949 तक 6 लाख से ज़्यादा अरब विस्थापित हुए |

अरब इजराइल वॉर

इजराइल की आज़ादी के बाद दुश्मनो ने इजराइल को हत्याने के सभी संभव प्रयास किए जिसमे कुछ हद तक उन्हे सफलता भी मिल गयी |

क्यूंकी इजराइल अभी आज़ाद हुआ था और उसे अपने विकास के लिए अभी समय भी नही मिला था | इसी बीच इजराइल के आज़ाद होते ही ईजिप्ट, जॉर्डन, लेबनॉन, सिरिया और इराक़ की सेनाओं ने इजराइल पर हमला कर दिया और अरब इजराइल वॉर की शुरुआत हो गयी |

1949 में एक अस्थाई समझौते के तहत वेस्ट बैंक इजराइल से लेकर जॉर्डन को और गाजा स्ट्रीप ईजिप्ट को दे दी गई |

इजराइल का लॉ ऑफ रिटर्न

इसके बाद इजराइल ने अरब सेनाओं से लड़ने से लिए सभी यहूदियों को इकट्ठा करने की योजना बनाई और 1950 में लॉ ऑफ रिटर्न लागू किया |

इस क़ानून के तहत हर यहूदी एक आप्रवासी की तरह इजराइल में आकर बसने का अधिकार रखता था |

इस तरह इजराइल ने सभी यहूदियों को अपने देश में वापिस बुलाकर अपनी ताक़त को बढ़ाना शुरू किया क्यूंकी इजराइल के बहुत से दुश्मन इजराइल को घेरे हुए थे |

इजराइल अपने तीनो तरफ से ईजिप्ट, सिरिया और जॉर्डन से घिरा हुआ है जिनके साथ 1967 में इजराइल ने 6 दिन का युद्ध लड़ा जिसमे इजराइल ने अपनी भूमि को दोगुना कर लिया |

इस लड़ाई में इजराइल ने वेस्ट बैंक, गाजा स्ट्रीप के साथ साथ गोलान हाइट्स और सिनई पेनिन्सुला का हिस्सा भी अपने क़ब्ज़े में कर लिया |

ईजिप्ट इजराइल सम्बन्ध

इसके बाद ईजिप्ट ने इजराइल के साथ अच्छे संबंध बनाने की कोशिश की और 1977 में ईजिप्ट के राष्ट्रपति अनवर सादात और इजराइल के प्रधान मंत्री मेनाचेम के बीच शांति वार्ता शुरू हुई और दोनो ने नोबेल पीस प्राइज़ को शेयर किया |

इसके बाद दोनो देशो में संधि के तहत इजराइल ने सिनई पेनिन्सुला पर से अधिकार वापिस ले लिया और ईजिप्ट ने इजराइल के जहाज़ो को सूयेज़ केनाल से फ्री पैसेज की इजाज़त दे दी |

लेकिन इससे दूसरे अरब देश नाराज़ हो गये और ईजिप्ट को अरब लीग से बाहर निकाल दिया गया और इसके बाद ईजिप्ट के राष्ट्रपति अनवर सादात की हत्या कर दी गयी |

फ़िलिस्तीन इजराइल गाजा स्ट्रीप विवाद

इसके बाद 1987 में फ़िलिस्तीन में इजराइल के गाजा स्ट्रीप और वेस्ट बैंक पर राज करने को लेकर पॅलेस्टीन लिबरेशन ऑर्गनाइज़ेशन ने विद्रोह कर दिया | 1993 में PLO के नेता अराफ़ात और इजराइल के प्रधान मंत्री राबिन के बीच शांति समझोता हुआ लेकिन 1995 में राबिन की हत्या कर दी गयी |

इसके बाद से इजराइल और फ़िलिस्तीन के बीच में बहुत बार शांति समझोते करवाने की बहुत से देशो ने कोशिश की लेकिन आज तक इजराइल और फिलिस्तान के बीच में विवाद चल रहा है |

ये देश अपने चारों और से दुश्मनो से घिरा है फिर भी इस देश ने अपनी अलग पहचान बनाई है |

Mohan

I love to write about facts and history. You can follow me on Facebook and Twitter

1 thought on “इजराइल के इतिहास के बारे में कुछ रोमांचक तथ्य”

Leave a Comment