Money Heist Professor Alvaro Morte Real Story in Hindi

जब से ये ओटीटी का चलन चला है दर्शकों को हर रोज़ नए से नए किरदार देखने को मिल रहे हैं | जिनमे से कुछ किरदार ही लोगों के दिल और दिमाग पर अपनी छाप छोड़ पाते हैं |

स्पेन देश के एंटेना 3 चैनल पर जब 2017 में ला कैसा डा पापेल शो टेलीकास्ट हुआ तो किसी ने भी नहीं सोचा था ये शो दुनिया भर में इतना बड़ा हिट होगा के घर घर में इसकी बात होगी |

Alvaro Morte Real Story in Hindi

फिर 2019 में नेटफ्लिक्स पर इस शो को टेलीकास्ट किया गया | अरे हम दुनिया के सबसे फेमस शो मनी हाइसट की बात कर रहे हैं | मनी हैस्ट की बात हो और इस शो के सबसे पावरफुल किरदार, इन हाइस्ट के मास्टरमाइंड प्रोफेसर की बात न हो तो ये इस शोज के फैंस के साथ नाइंसाफी होगी | तो आइये आपके ज्ञान को थोड़ा और बढ़ते हैं और आपको बताते हैं, मनी हाइस्ट के प्रोफेसर के बारे में | 

क्या आप मोर्टे का मतलब जानते है Alvaro Morte Name in Money Heist

इस शो में प्रोफेसर का किरदार निभाने वाले एक्टर अल्वारो का असली नाम अलवारो एंटोनियो गार्सिया पेरेज़ है | ये काफी लम्बा नाम है | थोड़ा छोटा होना चाहिए पर एक मिनट इसमें मोर्टे तो है नहीं | थोड़ा सब्र रखिये, हम आपको बताएंगे ये पूरी कहानी | 

जब अल्वारो अपने कॉलेज के दिनों में थे और उस समय वो थिएटर ड्रामा करते थे, तो उनको लगा के उनका नाम बहुत बड़ा है | लोगों को नाम याद रखने में और नाम बोलने में दिक्क्त होगी, तो उस समय अल्वारो की दोस्त थी जिसका नाम था मरिया मोर्टे |  

मोर्टे का मतलब मौत होता है, तो अल्वारो को ये नाम यूनिक और दूसरों से अलग लगा | अल्वारो ने अपने नाम के पीछे भी मोर्टे लगा लिया |

पर इसके बाद लोग अक्सर उनसे बोलते थे के ये नाम अशुभ है | उनका नाम सुनकर लोग अक्सर हैरान रह जाते थे, पर अल्वारो ने लोगों की नेगेटिविटी को अपने पास नहीं आने दिया और काम करते रहे | उनके मुताबिक, मोर्टे नाम उनके लिए लकी साबित हुआ | 

काफी मुश्किल था प्रोफेसर बनना Money Heist Professor Real Story in Hindi

आज अल्वारो जिस मुकाम पर हैं , वहां तक पहुंचना उनके लिए आसान नहीं था | उन्होंने इसके लिए दिन रत मेहनत की है , कई कई रातों तक जग कर काम किया है | अल्वारो ने अपने करियर की शुरुआत 2002 में की | तब उन्हें बहुत छोटे छोटे रोले मिलते थे |

कई बार उन्हें जब कोई काम नहीं मिलता था तो वो रेस्टोरेंट में वेटर का काम करते थे या शादियों वगेरा में कैमरा चलाने का काम करते थे |

जब वो अपने शुरुआती दिनों में स्कूल ऑफ ड्रामेटिक आर्ट कोर्डोबा में पढ़ते थे, तो उन्हें लम्बे बाल रखने का शोक पैदा हुआ | इन लम्बे बालों की वजह से भी उन्हें अच्छे रोल मिलने में काफी दिक्क्त हुई |

जब भी वो किसी ऑडिशन पर जाते तो उन्हें हमेशा गरीब, भिकारी के रोल दिए जाते | इसके बाद इन्होने अपने बाल कटवा कर छोटे करवाने का फैसला लिया | 

जब हालत सही न हो तो हर कोई नेगेटिव बात करता है | अल्वारो की पत्नी को लगता था के अल्वारो हमेशा छोटे रोल करेंगे | वो कभी हिट नहीं हो पाएंगे और दुनिया में पहचान कभी नहीं बना पाएंगे, पर अल्वारो ने हिम्मत नहीं हारी और लगातार मेहनत करते रहे |

आसान नहीं था प्रोफेसर का रोल हासिल करना

अल्वारो के लिए प्रोफेसर का रोल हासिल करना आसान नहीं था | उनसे पहले मशहूर एक्टर रेयमंड रेडिग्टन और माइकल  स्कोफ़ील्ड  जैसे एक्टर इस रोल के लिए देखे जा रहे थे | इस रोल को हासिल करने के लिए उन्होंने लगभग ढाई महीने तक स्क्रीन टेस्ट दिए | सबसे पहले टेस्ट में वो सेलेक्ट हो गए , पर शो के निर्माताओं के मुताबिक , प्रोफेसर थोड़ा अलग किरदार है तो वो एक्टर से भी कुछ अलग करने की उम्मीद कर रहे थे | 

कुछ दिनों का समय लेकर अल्वारो ने इस किरदार के लिए कुछ छोटे छोटे बदलाव किये और निर्माताओं के सामने एक बिल्कुल नया प्रोफेसर 

पेश किया जो उनको बहुत पसंद आया , उनको ही नहीं , बल्कि पूरी दुनिया उस प्रोफेसर की फैन बन गयी | 

निर्माताओं के अनुसार , प्रोफेसर थोड़ा शर्मिला और थोड़ा पुराणी दिख वाला और पुराने ख्याल वाला चाहिए था , और अल्वारो ने बिलकुल वैसा ही करके दिखाया |

मोर्टे ने मौत को हराया

2011 में अल्वारो को अचानक पता चला के उनकी जांघ में एक ट्यूमर है |  पहले तो उन्होंने इसे कुछ सीरियस नहीं लिया पर थोड़े समय बाद ही ये ट्यूमर बढ़ गया और इसने कैंसर की शक्ल ले ली |  अल्वारो को लगा के वो अब सिर्फ 2 – 3 महीने में मर जायेगा पर ऐसा नहीं हुआ | अल्वारो ने बहुत हिम्मत से अपने कैंसर का इलाज करवाया और मनी हाइस्ट से पहले ही इन्होने अपने कैंसर से छुटकारा पा लिया | 

मोर्टे और 300 पिस्टल्स

नहीं नहीं इसका मतलब ये नहीं के अल्वारो के पास 300 पिस्टल्स हैं , बल्कि ये अल्वारो की थिएटर कम्पनी का नाम है | एक रात अल्वारो अपनी पत्नी और बच्चों के साथ टीवी पर एक ड्रामा देख रहे थे | ड्रामा हर किसी को पसंद नहीं आता, लोग ड्रामे से ज्यादा फिल्म देखना पसंद करते हैं और अल्वारो घर के हाल भी कुछ ऐसे ही थे |

ड्रामा देखते देखते उनकी पत्नी और बच्चे सो गए, तो अल्वारो को लगा के ये ठीक नहीं है | लोगों को ड्रामे के प्रति दिलचस्पी पैदा करने के लिए और ड्रामे को एक नए रूप में दिखाने के लिए अल्वारो ने अपनी ड्रामा कंपनी 300 पिस्टल्स खोल डाली | इनका मकसद नए एक्टर्स को मौका देना, बोरिंग और क्लासिक ड्रामे को नए रूप में पेश करना था | 

ये था सबसे मुश्किल सीन

एक इंटरव्यू में अल्वारो से पूछा के उनके लिए सबसे मुश्किल सीन कोनसा था तो उन्होंने बताया के शो के सीजन 3 का एक सीन उनके लिए बहुत मुश्किल था , वो एक्टर के तौर पर निभाना बहुत मुश्किल था , उस सीन में राक्वेल को गोली लगती है और प्रोफेसर उसके पास भागा आ रहा है |

तो कान में लगे डिवाइस की मदद से प्रोफेसर को गोलिओं की आवाज़ आती है और वो शोक में अपने घुटने पर बैठ जाते हैं  | उस हालत में प्रोफेसर टूट जाता है और बिन आवाज़ किये रोता है | ये हालत किसी भी इंसान को तोड़ने के लिए काफी है | 

मनी हाइस्ट का ये  प्रोफेसर अपनी असल जिंदगी में भी प्रोफेसर है | हालाँकि इनके पास प्रोफेसर की कोई खास डिग्री नहीं है पर फिर भी इन्होने स्टेज मैनेजमेंट और लिटरेचर के ऊपर, फ़िनलैंड की टेम्पेरे यूनिवर्सिटी में लेक्चर दिए हैं |

आज मनी हाइस्ट का दबदबा पूरी दुनिया में है और ये दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला शो है | ये कोई फर्क नहीं पड़ता के इसके दर्शक कोनसे देश या शहर से हैं | इस शो ने अपनी एक अलद फैनबेस बनाया है और अपने आगे आने वाले सीज़न्स में भी ये अपना जादू  ऐसे ही बरकरार रहेगा |

Rahul Sharma

हमारा नाम है राहुल,अपने सुना ही होगा। रहने वाले हैं पटियाला के। नाजायज़ व्हट्सऐप्प शेयर करने की उम्र में, कलम और कीबोर्ड से खेल रहे हैं। लिखने पर सरकार कोई टैक्स नहीं लगाती है, शौक़ सिर्फ़ कलाकारी का रहा है, जिसे हम समय-समय पर व्यंग्य, आर्टिकल, बायोग्राफीज़ इत्यादि के ज़रिए पूरा कर लेते हैं | हमारी प्रेरणा आरक्षित नहीं है। कोई भी सजीव निर्जीव हमें प्रेरित कर सकती है। जीवन में यही सुख है के दिमाग काबू में है और साँसे चल रही है, बाकी आज कल का ज़माना तो पता ही है |

Leave a Comment