हेलोवीन क्या होता है What is Halloween in Hindi

What is Halloween in Hindi – हेलोवीन का त्यौहार हर साल अक्टूबर के आखिरी दिन यानि 31 अक्टूबर को मनाया जाता है | यह त्यौहार विदेशों में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है | ये त्यौहार आजकल भारत में भी बहुत प्रसिद्ध होता जा रहा है | 

वैसे तो इस त्यौहार में भी लोग ख़ुशी मनाते हैं और एक दूसरे को उपहार बांटते हैं साथ ही रंग बिरंगे कपडे पहनते हैं | लेकिन इस त्यौहार को भूत प्रेतों से भी जोड़ा जाता है इसलिए लोग इस दिन डरावने कपड़े और मुखोटे पहन कर पार्टी भी करते है |

हेलोवीन का त्यौहार सबसे अधिक यूरोप, अमेरिका और इंग्लैंड के साथ साथ दुनिया के दूसरे बहुत से देशों में भी मनाया जाने लगा है | लेकिन कहा जाता है इस डरावने त्यौहार को मनाने की परम्परा आयरलैंड और स्कॉटलैंड से शुरू हुई थी |

इस त्यौहार से बहुत सी कहानियां जुड़ी हुई हैं | आज हेलोवीन के मौके पर आपके मन में भी इस त्यौहार के बारे में ओर अधिक जानने की इच्छा बढ़ी होगी, तो हम आपकी इसी इच्छा को पूरा करने के लिए हेलोवीन से जुड़े ऐसे फैक्ट लेकर आये हैं |  

जो आपकी इच्छा को पूरा करेंगे और आपका ज्ञान इस त्यौहार के बारे में और बढ़ा देंगे ताकि आप अपने दोस्तों के सामने थोड़ी शेखी बना सके |

हेलोवीन क्या होता है?- What is Halloween in Hindi

what is halloween meaning in hindi

इस त्यौहार को मनाने के पीछे बहुत सी मान्यताएं है | जैसे की कुछ लोग मानते हैं कि Halloween केल्टिक के लोगों का साम्हिन (Samhain) त्यौहार है जिसमें वो लोग भूतों और बुरी आत्माओं से बचने के लिए डरावने कपडे पहनते थे और मोमबत्तियां जलाते थे |

इस समय फसली मौसम खत्म होता था और उस मौसम के जाने और नए मौसम के आने की ख़ुशी में ये त्यौहार मनाया जाता था |

उस समय लोगों का मानना था के धरती पर 2 दुनियाएं है, एक में जीवित लोग रहते है और एक में मृत लोग , तो इस दिन दोनों दुनियाओं के बीच की रेखा मध्हम हो जाती है और मृत दुनिया से आत्माएं जीवित लोगों की दुनिया में आ जाती है,  वो मृत लोगों की आत्माएं हमारी दुनिया में आकर लोगों को परेशान करती है तो उनसे बचने के लिए और आत्माओं को डराने के लिए भिन्न भिन्न तरह की पोशाकें और चेहरे पर मास्क पहने जाने चाहिए | 

प्राचीन लोगों की ये मिथ, आज के लोगों के मनोरंजन का साधन बन गया और आज लोग इस दिन अलग अलग तरह की पोशाकें और मास्क पहन कर सड़कों पर उतरते हैं |

यूरोप के लोगों का ये भी मानना है कि इस दिन उनके पुरुखों की आत्मायें धरती पर आती है | जिस तरह भारत में पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध मनाये जाते हैं उसी तरह से यूरोप में भी इसे अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति से जोड़ कर देखा जाता है |

केल्ट्स (celts) में रहने वाले लोग जो की अब आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस का कुछ हिस्सा है 1 नवंबर को नये साल के रूप में ही मनाते थे |

ये भी पढ़ें: दुनिया की सबसे डरावनी जगह

अमेरिका में हेलोवीन क्यों मनाया जाता है Halloween History in Hindi

अमेरिका के लोग इसे कद्दू की कटाई से भी जोड़ कर देखते हैं | इसलिए इस त्यौहार को कद्दुओं का त्यौहार भी कहा जाता है | अमेरिका में रहने वाले लोग इस दिन बड़े बड़े कद्दुओं को काटकर उस पर डरावना चेहरा बना देते हैं और उनके अंदर मोमबतियां रख देते हैं |

ईसाई धर्म गुरुओं के द्वारा केल्टिक लोगों के त्यौहार की तरह से ही एक त्यौहार मनाया जाने लगा जिसे All Saints Day, Martyrs Day और अंत में All Souls’ Day कहा जाने लगा जिसे 2 नवंबर को मनाया जाने लगा |

All Saints Day को All-hallows या All-hallowmas भी कहा जाने लगा और इसी तरह केल्टिक लोगों का त्यौहार जो कि 1 नवंबर को मनाया जाता था उसे All-Hallows Eve और Halloween कहा जाने लगा |

हेलोवीन के बारे में कुछ रोमांचक बातें – Interesting Facts About Halloween in Hindi

हेलोवीन के बारे में कुछ रोमांचक बातें
  • विदेशों में हेलोवीन क्रिसमस के बाद सबसे ज्यादा मनाया जाने वाला त्यौहार है | एक सर्वे के मुताबिक सिर्फ अमरीका में ही हैलोवीन त्यौहार पर 6 बिलियन डॉलर खर्च किये जाते हैं ,और हैरानी  की बात तो यह है के लोग अपने पालतू जानवरों के लिए भी हेलोवीन पार्टी के कपड़े खरीदते हैं और उस पर भी भारी खर्च करते हैं | 
  • हेलोवीन पर जैक ओ-लैंटर्न बनाने का रिवाज़ है, ये रिवाज़ आयरिश लोक कथाओं से आया है | इस दिन कद्दू को ट्रैश कर उसे इंसानी शक्ल दी जाती है और उसके अंदर मोमबत्ती या किसी और चीज से रौशनी की जाती है | 
  • ये परम्परा अमरीका के लोगों ने भी अपना ली, यहां के लोग पहले शलगम को तराशते थे ,पर धीरे धीरे उन्होंने कद्दू को तराशना शुरू किया | और आज ये हेलोवीन के लिए सबसे जरूरी रिवाज़ बन गया है | लोग अपने घरों के बाहर बिजूका और मक्की का भूसा भी सजाते हैं |
  • लोग हेलोवीन के समय तरह तरह के खेल खेलते हैं जिनमे से सबसे ज्यादा खेला जाने वाला खेल है एप्पल बोबिंग | इस खेल में पानी के भरे एक टब में सेब रखे जाते हैं , और खिलाड़ी को अपने दांत से उठा कर सेबों को बाहर फेंकना होता है , जो सबसे ज्यादा सेब फेंकता है वो जीतता है |
  • आपको ये जान कर हैरानी होगी के जहाँ कई लोग हेलोवीन को बहुत चाव से मनाते हैं , वहीं दूसरी तरफ कुछ ऐसे लोग भी हैं , जिन्हे हेलोवीन के त्यौहार से डर लगता है , सुनने में थोड़ा अजीब लग रहा है , पर ये सच है , कुछ लोगों को हेलोवीन से फोबिआ है ,और इस बीमारी को Samhainophobia कहा जाता है |
  • हेलोवीन पर मकड़ी का दिखना शुभ माना जाता है | इसे Itsy bitsy spider कहा जाता है | लोगों का मानना है के , इस दिन मृत दुनिया में रहते हमारे परिजन जीवित लोगों की दुनिया में आ जाते हैं , और कुछ परिजन मकड़ी के भेष में आते हैं , तो इसलिए अगर आपको इस दिन मकड़ी दिखती है तो डरना नहीं चाहिए क्योंकि हो सकता है वो आपका कोई मृत परिजन हो |
  • अमेरिका में बच्चे इस दिन ट्रिक और ट्रीट मनाते है और पड़ोसियों के घर में जाकर बोलते है ट्रिक और ट्रीट | तब पडोसी उन्हें ट्रीट बोलकर उन्हें खाने के लिए चॉकलेट देते हैं | परन्तु शुरुआत में ये प्रथा ऐसे नहीं थी , शुरुआत में इस परम्परा को युवक निभाते थे , वो घर घर जा कर गाने गाते थे और भोजन मांगते थे |
  • ट्रिक और ट्रीट की शुरुवात केल्टिक लोगों ने की थी जिसमें वो अपने घरों के बाहर खाने पीने की वस्तुएं रखकर आत्माओं को बुलाते थे |
  • अमेरिका में हैलोवीन की शाम काली बिल्ली का रास्ता काटना अशुभ माना जाता है |
  • अमेरिका में माता पिता इस दिन बच्चों के कपड़ों पर लाखों खर्च करते हैं |
  • कुछ जगह इस दिन और पुरे अक्टूबर में आप बिल्ली नहीं खरीद या अडॉप्ट नहीं कर सकते क्यूंकि बिल्लियां बेचने वालों को डर रहता है कि कहीं इस दिन बिल्ली की बलि ना दे दी जाए |
  • कुछ लोग हेलोवीन को रोम के एक त्यौहार से प्रभावित मानते हैं जिसे पोमोना (Pomona) कहा जाता है जिसमें रोम की देवी की पूजा की जाती है | ऐसा इसलिए है क्यूंकि रोम ने 43 A.D में केल्टिक पर अपना अधिकार कर लिया था |
  • हेलोवीन एक ऐसा विषय है जिसपर हॉलीवुड में बहुत सारी फ़िल्में बनी है और बहुत सारी फ़िल्में तो बहुत कामयाब हुई है | (हेलोवीन से जुडी फिल्मों के बारे में यहां पढ़े)

हेलोवीन की कहानी व तरीके Halloween Story in Hindi

हेलोवीन एक ऐसा त्यौहार है जिसे लोगों के मनाने के अपने अपने तरीके हैं | 18 वीं सदी में कुंवारी लड़कियां, हेलोवीन के समय अपना जीवन साथी को चुनती थी और ऐसा करने का तरीका बिलकुल अलग था | 

लड़कियां सेब के छिलकों को अपने कंधों से घुमा कर पीछे फेंकती थी | उनके अनुसार सेब के छिलके गिरने से, एक अक्षर या पैटर्न बनेगा और वो उनके होने वाले पति के बारे में संकेत देगा | 

यहां तक की लड़कियां एक अँधेरे कमरे में शीशे के आगे मोमबत्ती लेकर खड़ी हो जाती थी, उनके मुताबिक उस शीशे में उनके पति का चेहरा दिखेगा |

आयरलैंड में हेलोवीन के समय ब्रेड को सजाने का भी प्रचलन है | ब्रेड के अंदर रंग बिरंगे फल रखे जाते हैं और और साथ में कोई खिलौना या कोई गहना रखा जाता था , और जो भी उस खिलौने को या गहने को ढूंढता था , ऐसा माना जाता था के आने वाले साल उसके लिए बहुत भाग्यशाली होंगे | 

हेलोवीन के समय काली बिल्ली को गोद लेना या घर पर रखना अशुभ माना जाता है | ऐसा माना जाता है के काली बिल्ली शैतान को पेश करती है , और इस पावन मौके पर अशुभ होती है | क्योंकि लोगों का मानना है कि कुछ गलत काम करने वाले लोग , इस दिन कल्ली बिल्ली की सहायता से बुरे काम कर सकते हैं |

तो ये रहे कुछ फैक्ट दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कमर्शियल त्यौहार के , कमर्शियल इस लिए क्योंकि लोग इस त्यौहार पर बहुत खर्च करते हैं | एक अनुमान के मुताबिक केवल अमरीका में ही 2 अरब डॉलर केवल हेलोवीन कैंडी पर ही ख़र्च किये जाते हैं | आयरलैंड से शुरू हुआ एक पर्व आज लगभग पूरी दुनिया में पैर पसार रहा है | हेलोवीन से बहुत सारी धारणाएं जुडी हैं और लोगों के इसे मनाने के अलग अलग तरीके हैं |

आशा करता हूँ आप जान गए होंगे हेलोवीन क्या होता है, हैलोवीन अर्थ, हेलोवीन कब आती है और हेलोवीन में क्या करते हैं | अगर नहीं तो नीचे कमेंट बॉक्स खुला है |

Robin Mehta

मेरा नाम रोबिन है | मैंने अपने करियर की शुरुआत एक शिक्षक के रूप में की थी इसलिए इस ब्लॉग पर मैं इतिहास, सफल लोगों की कहानियाँ और फैक्ट्स आपके साथ साँझा करता हूँ | मुझे ऐसा लगता है कलम में जो ताक़त है वो तलवार में कभी नहीं थी |

Leave a Comment