किशोर कुमार का जीवन परिचय

Kishore Kumar Biography in Hindi

किशोर कुमार जिनका बचपन का नाम था अभास कुमार गांगुली | उनका जन्म 4 अगस्त 1929 को खंडवा सिटी में हुआ जो अब मध्य प्रदेश में है |

किशोर कुमार को किशोर दा के नाम से जाना जाता था किशोर दा एक बहु प्रतिभावान व्यक्ति थे | उन्होंने सिंगर, अभिनेता, संगीतकार, लेखक के रूप में काम किया।

किशोर कुमार का जन्म एक बंगाली परिवार में हुआ इनके पिता का नाम कुंजलाल गांगुली था जो की एक वकील थे इनकी माता का नाम गोरी देवी था |

इनके दो बड़े भाई थे जिनका नाम अशोक कुमार और अनूप कुमार था ओर ये दोनों भी एक्टर थे। इनकी बहन का नाम सटी देवी था।

किशोर कुमार की जीवनी Kishore Kumar Biography in Hindi

संगीतकार

किशोर दा अपनी दिलचस्पी संगीत में भी दिखाने लगे और उन्होंने के. एल. सहगल की आवाज की नक़ल भी की। उनका सपना बहुत बड़ा प्लेबैक सिंगर बनना था |

वो बहुत से फिल्म निर्माता के पास जाते थे ताकि उन्हें किसी फिल्म में प्लेबैक सिंगर बनने का मौका मिल सके। एक बार एस. डी. बर्मन उनके घर भी आये जब उन्होंने उनकी आवाज सुनी उन्हें सच में ऐसा लगा की वो के. एल. सहगल की आवाज है |

जब उन्हें पता चला की किशोर दा उनकी आवाज में गा रहे है तो उन्होंने किशोर दा की बहुत प्रशन्सा की और उन्हें सलाह देते हुए कहा कि उन्हें गाने का अपना तरीका बनाना चाहिए।

किशोर दा ने बर्मन जी की सलाह को ध्यान में रखते हुए अपने स्टाइल में गाना शुरू किया फिर बॉलीवुड इंडस्ट्री में उनका बहुत नाम भी हुआ उनके गीत हंसी की तरह बिल्कुल स्वाभाविक लगते थे।

वे अपने गीतों में गैर-कामुक शब्दों को शामिल करते थे और इसे पूरी तरह से नया एहसास देते थे न केवल दृश्य बल्कि अभिनेता के अनुसार अपनी आवाज को बदलने की क्षमता कुछ ऐसी है जो किशोर दा के लिए वास्तव में अविश्वसनीय थी। 

फ़िल्मी करियर

Kishore Kumar Movies

किशोर दा की पहली फिल्म शिकारी (1946) थी और उस समय उनकी उम्र केवल 17 वर्ष थी और 1948 में उन्हें खेमचंद प्रकाश की तरफ से ज़िद्दी फिल्म में गाना गाने का मौका भी मिला। और इस समय तक किशोर दा बंम्बई नहीं बल्कि अपने परिवार के साथ ही रहते थे।

फिर 1949 में वो बंम्बई आकर रहने लगे फिल्म नगरी में रहने से उन्हें बहुत सी फिल्मो में काम करने का मौका मिला 1951 में आंदोलन, 1954 में नौकरी और 1957 में मुसाफिर फिल्म में काम किया

किशोर दा की रोमांटिक फिल्मे बॉक्स ऑफिस पर इतना धमाल नहीं मचा पायी लेकिन इनकी हास्य फिल्मो ने बॉक्स ऑफिस पर बहुत धमाल मचाया जिनमे से नयी दिल्ली (1957), आशा (1957), चलती का नाम गाड़ी (1958), हाफ टिकट (1962), पड़ोसन (1968) बहुत चर्चित फिल्मे रही रही हैं।

उन्होंने 1957 से 1962 तक आशा भोंसले के साथ काफी काम किया जो एस. डी. बर्मन और लता मंगेशकर जी की वजह से मुमकिन हो पाया।   

किशोर कुमार संगीत निर्देशकों में केवल बर्मन जी तक सीमित नहीं थे उन्होंने और भी महान संगीत निर्देशकों के साथ काम किया और बहुत से हिट गाने भी दिए जिनमे से कुछ है सलिल चौधरी – छोटा सा घर होगा (नौकरी – 1954), सी. रामचन्द्र – ईना मीना डीका (आशा – 1957), शंकर जयकृष्ण – नखरेवाली (नई दिल्ली – 1965) |

किशोर कुमार का वैवाहिक जीवन

किशोर कुमार ने अपने फ़िल्मी करियर के दौरान चार शादिया की | 1951 में उनकी पहली शादी हुई और उनकी पहली पत्नी का नाम था रुमा गुहा ठाकुरता जो की एक अभिनेत्री और गायिका भी थी और उनका एक बेटा भी हुआ जिसका नाम है अमित कुमार |

जोकि आज एक कामयाब अभिनेता, गायिक, निदेशक हैं। किशोर दा की ये शादी 1958 तक चली फिर उनका तलाक हो गया।

फ़िल्मी करियर में कामयाबी के साथ साथ किशोर कुमार के व्यक्तिगत जीवन में भी बहुत से उतार चढाव आए | 1960 में उन्होंने अभिनेत्री मधुबाला (असली नाम मुमताज़ बेगम जहान देहलवी) से शादी की, जिनके साथ उन्होंने “चलती का नाम गाड़ी” (1958) जैसी फ़िल्मों में काम किया था।

ये शादी परिवार में बहुत से झगड़ो का कारण बनी क्योंकि वह हिंदू थे और मधुबाला मुस्लिम थी। विवाह में किशोर कुमार के माता-पिता ने आने से इनकार कर दिया।

बाद में किशोर और मधुबाला ने अपने माता-पिता को खुश करने के लिए हिंदू अंदाज में शादी की। शादी के एक महीने के बाद ही, वह कुमार के घर से चली जाती है और अपने निवास पर लौट आती है |

वे जीवन भर शादीशुदा रहे, लेकिन कुछ हद तक तनावपूर्ण परिस्थितियों में। उस समय मधुबाला दिल की बीमारी से पीड़ित थी। और ये बीमारी बदतर होती गयी और 23 फरवरी, 1969 को उनकी मृत्यु हो गई।

1976 में किशोर कुमार ने अपनी तीसरी पत्नी, फिल्म अभिनेत्री योगिता बाली से शादी की। हालाँकि यह शादी टिक नहीं पाई, उन्होंने 1978 में तलाक ले लिया।

1980 में उन्होंने अपनी चौथी पत्नी, फिल्म अभिनेत्री लीना चंदावरकर से शादी की। इस शादी से उन्हें  सुमीत कुमार नाम का एक बेटा भी हुआ। 1987 में उनकी मृत्यु तक वे विवाहित रहे।

ये भी पढ़ें: सोनू सूद गरीबों के मसीहा

निभाया हर किरदार

1960 में किशोर कुमार ने फिल्म निर्माण के लगभग हर पहलू को शामिल करने के लिए अपनी भागीदारी का विस्तार करना शुरू किया।

उदाहरण के लिए, उन्होंने “झुमरू” (1961) में निर्माण, निर्देशन और अभिनय किया। इसके अलावा, उन्होंने शीर्षक गीत के लिए गीत लिखे, और फिल्म के सभी गीतों के लिए संगीत तैयार किया। उनके द्वारा निर्मित और निर्देशित अन्य फ़िल्में “डोर का राही” (1971) और “डोर वादियाँ में” (1980) थीं

1960 का दशक किशोर कुमार के लिए मिश्रित काल था। उज्जवल पक्ष में, इस अवधि के कई हिट गाने थे। कुछ उदाहरण “गाइड” (1964) से गाता रहे मेरा दिल, और “ज्वेल थीफ” (1967) से ये दिल ना होता बेचारा है। हालाँकि उन्हें अपनी समस्याएं भी थीं।

उदाहरण के लिए, आयकर चोरी को लेकर भारत सरकार के साथ बहुत प्रचारित समस्याएं थीं। इन सब के चलते; वह अक्सर रिकॉर्डिंग के लिए देर से आते थे और कभी-कभी बिल्कुल नहीं दिखते थे।

इसके अलावा कई फिल्में फ्लॉप हुई हैं। मामलों को बदतर बनाने के लिए, उनकी पत्नी मधुबाला के साथ तनावपूर्ण वैवाहिक संबंध भी थे; उसकी तबीयत बिगड़ने से मामला और बिगड़ता रहा । 1968 तक वह इतने निराश हो गये थे कि वह सेवानिवृत्ति(रीटाइरमन्ट) पर विचार कर रहे थे।

हालाँकि 1970 की शुरुआत काफी बेहतर दिखी। 1969 की फिल्म “आराधना” के उनके गीत ”रूप तेरा मस्ताना” ने उन्हें फिल्मफेयर पुरस्कार दिलाया। उन्हें बहुत काम मिल रहा था, और उनकी सार्वजनिक प्रतिष्ठा फिर से बढ़ने लगी।

1970 के दशक के उत्तरार्ध एक और कठिन दौर था। आकाशवाणी / दूरदर्शन ने निश्चित रूप से उनके करियर में मदद नहीं की। बहुत कम हीट गीत आने लगे, दूसरी ओर किशोर की फिल्में बॉक्स-ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही थीं।

70 के दशक के मध्य में उन्होंने अपनी अभिनय भूमिकाओं में बहुत कटौती की और उनकी अंतिम स्क्रीन भूमिका “डोर वाडियोन में नहीं” (1980) है।

ये भी पढ़ें: Kabir Das Biography in Hindi

किशोर कुमार की मृत्यु

किशोर कुमार के लिए 1986 एक विवेचनात्मक वर्ष था। वह दिल का दौरा पड़ने से पीड़ित थे। वह इससे उबर तो जाते है, लेकिन यह उनके रिकॉर्डिंग शेड्यूल को काफी कम कर देता है।

वह सेवानिवृत्ति में जाने और अपने जन्मस्थान खंडवा लौटने की योजना बनाते है; लेकिन ऐसा हो नहीं होता है। किशोर की आखिरी रिकॉर्डिंग मिथुन चक्रवर्ती के लिए एक पार्श्व गीत था। यह फिल्म “वक़्त की आवाज़” (1988) के लिए आशा भोसले के साथ एक युगल गीत था।

1987 में उन्हें बंम्बई में एक और बड़े दिल का दौरा पड़ा। 58 वर्ष की आयु में 13 अक्टूबर 1987, को उनका देहांत हो गया। उनके पार्थिव शरीर को दाह संस्कार के लिए खंडवा के उनके जन्मस्थान ले जाया गया।

Mohan

I love to write about facts and history. You can follow me on Facebook and Twitter

Leave a Comment